डिप्लोमा इन फिज़िओ थेरेपी

फिज़िओथेरेपी  शरीर के विभिन्न अंगो के स्वस्थ क्रिया कलाप से सम्बंधित एक कलात्मक विज्ञान है जिसमें मानव शरीर में किन्ही कारणों से उत्पन्न असमर्थता, जैसे हाथ पैर अथवा रीढ इत्यादि अंगो का सामान्य तौर पर कार्य करने में कठिनाई इत्यादि रोगों के सन्दर्भ में चिकित्सा, परामर्श एवं पुनर्वास आदि का अध्ययन किया जाता है। चिकित्सा के क्षेत्र में फिज़िओ थेरेपी की तकनीक अत्यंत ही कारगर एवं प्रभावशाली है इस क्षेत्र में कार्य करने वाले पेशेवर, आधुनिक मेडिकल तकनिकी के प्रयोगों द्वारा  किसी विशेष शारीरिक असक्षमता को मसाज एवं एक्सरसाइज द्वारा सामान्य मानवीय गतिविधियों में परिणित करते हैं। 

डिप्लोमा इन फिज़िओ थेरेपी के दो वर्षीय प्रोग्राम में विद्यार्थियों को मरींजों के लिए एक समग्र एवं उच्च श्रेणी के कोर्स का अध्ययन कराया जाता है, जिनके माध्यम से यें विभिन्न कारणों से उत्पन्न  शारीरिक असक्षमता जैसे किसी रोग अथवा चोट या फिर अधिक उम्र हो जाने से हुई शारीरिक अपंगता का इलाज प्रभावशाली एवं पेशेवर ढंग से कर सके।

इस कोर्स में मुख्यतः जनरल एनाटोमी, इलेक्ट्रोथेरपी सर्जरी, जेनेरल फिजियोलॉजी, फिजियोथेरेपी इन मेडिकल कंडीशन, फार्माकोलॉजी मेडिसिन, फिजियोथेरेपी इन सर्जिकल कंडीशन, एक्सरसाइज थेरेपी, गायनेकोलॉजी, रेहाबिलिएशन एवं कंप्यूटर ट्रेनिंग आदि विषय शामिल रहते हैं।

मेडिकल नर्शिंग के इस प्रोफेशनल कोर्स (DPT) में एडमिशन लेने के लिए अभ्यर्थी की न्यूनतम अहर्ता (Qualification) 10+2 है जो विद्यार्थी द्वारा साइंस विषयों में न्यूनतम 40% अंको के साथ किसी रेकग्नाइज़्ड एजुकेशनल बोर्ड द्वारा प्राप्त किया गया हो। कई कॉलेजों में एंट्रेंस टेस्ट के आधार पर दाखिला दिया जाता है जैसे की JIPMER, NEET, AIIMS, UPSEE इत्यादि  जबकि कुछ इंस्टीटूशन्स 10+2 में परफॉरमेंस के आधार पर डायरेक्ट एडमिशन देते हैं।

इस कोर्स का सञ्चालन करने वाले कॉलेजों में कुछ नाम जैसे बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी झाँसी, साई नाथ यूनिवर्सिटी राँची, हमदर्द इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च नई दिल्ली, अलीगढ इंस्टिट्यूट ऑफ़ पैरामेडिकल साइंस अलीगढ,  किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ, IIMT कॉलेज ऑफ़ पैरामेडिकल एजुकेशन आगरा एवं इंदिरा गाँधी इंस्टिट्यूट ऑफ़ पैरामेडिकल साइंस अमेठी आदि शामिल हैं। इन कॉलेजेस की फी साधारणतः INR 20000 से INR 2 लाख तक होती है। 

बदलते जीवन शैली एवं सामाजिक मूल्यों के कारण मस्क्युलो स्केलेटन (मांश पेशीय व कंकाल) सम्बंधित समस्याओं  में काफी वृद्धि देखि जा रही है। ज्यादातर परिस्थितियों में ऐसे केसेज़ फिज़िओथेरेपिस्ट को ही रैफर किये जाते हैं। DPT प्रोफेशनल का कार्य क्षेत्र साधरणतः गवर्नमेंट या प्राइवेट सेक्टर के ओर्थपेडीक डिपार्टमेंट, रेहाबिलिएशन सेन्टर्स, हेल्थ इंस्टीटूशन, डिफेन्स मेडिकल ऑर्गनाइज़ेशन, स्पोर्ट्स क्लब अथवा जिम इत्यादि होता है ।  

देश में DPT प्रोफेशनल को जॉब ऑफर करने वाले कुछ संस्थान जैसे  फोर्टिस हेल्थ केयर, MAX हेल्थ केयर, केयर हॉस्पिटल, इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च,अपोलो हॉस्पिटल,जेपी हेल्थ केयर लिमिटेड, एडेक्को इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, होसमत हॉस्पिटल, तलवलकर्स, पैंटालून फिटनेस प्राइवेट लिमिटेड इत्यादि अनेकों  नाम हैं। जहां ये थेरेपी मैनेजर, कस्टमर केयर असिस्टेंट, असिस्टेंट फिज़िओथेरेपिस्ट, रेहाबिलिटेटर, रीसर्चर एवं  प्रोफेसर  जैसे पदों पर INR 3 से INR 20 लाख तक के पैकेज पर काम करते हैं।इसके अतिरिक्त निजी प्राइवेट फिज़िओथेरेपिस्ट के हैसियत से प्रैक्टिस करने का अवसर भी इन्हे सुलभ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *