डिप्लोमा इन एनेस्थीसिया

एनेस्थीसिया चिकित्सा के क्षेत्र में प्रयोग होने वाली कुछ गैसेस, जैसे नाइट्रस ऑक्साइड एवं ईथर के कुछ डेरिवेटिव्स जैसे इसोफ्लोरैंस, सेवोफ्लोरैंस एवं डेसफ्लूरेन्स आदि का मिश्रण है जिसके माध्यम से मरीज को सर्जरी  के समय अस्थायी अथवा सामयिक संवेदनहीनता लाने या जागरूकता को समाप्त करने में  किया जाता है। मरीज को सर्जरी  के समय होने वाले दर्द से मुक्ति हेतु बेहोशी की हालत में लाने  के लिए  एनेस्थीसिया का प्रयोग मुख्यतः चार प्रकार से किया जाता है जैसे  जनरल एनेस्थीसिया, रीजनल एनेस्थीसिया, सेडशन एनेस्थीसिया, एवं लोकल एनेस्थीसिया आदि।

डिप्लोमा इन एनेस्थीसिया के 2 वर्ष के कोर्स में स्टूडेंट को  एनेस्थीसिया के क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन के लिए एक मजबूत आधार मिल जाता है। इस कोर्स की संरचना में शामिल कुछ गूढ़ विषय जैसे इंटेंसिव ट्रांसफ़ीज़न थेरेपी, फार्माकोडाइनामिक्स एंड फार्माकोलॉजी ऑफ़ इन्हेलिंग एनेस्थेटिक्स, एनेस्थीसिया इन ऑर्थोपेडिक्स एंड ट्रॉमाटोलॉजी, टॉक्सिकोलॉजी, पीडियाट्रिक्स एंड नॉनटोलॉजी आदि के अध्ययन के कारण स्टूडेंट को हायर स्टडी द्वारा अपने करियर सम्बन्धी महत्वकांछा को पूरा करने में सुविधा मिलती है। चूँकि मेडिकल एवं सर्जरी के क्षेत्र में एनेस्थीसिया का बहुत ही अधिक महत्व  है अतः इस कोर्स के बाद तत्काल ही जॉब एवं करियर की संभावनाएं भी उपलब्ध होती हैं। हालाँकि इस क्षेत्र में करियर की इच्छा रखने वाले कैंडिडेट के पास एक विशेष स्तर की क्षमता का होना अपेक्षित होता है। सर्जरी एवं बेहोशी जैसे अति संवेदनशील विषयों की गंभीरता, जिसका सीधा सम्बन्ध एनेस्थीसिया के मात्रा से होता है, वह इन्ही टेक्निशन के कार्य क्षेत्र का अंग होता है, जाहिर है कैंडिडेट का जिम्मेवार एवं सजग होना एक आवश्यक शर्त होती है।      

डिप्लोमा इन एनेस्थीसिया प्रोग्राम में एडमिशन लेने के लिए अभ्यर्थी की न्यूनतम अहर्ता (Qualification) 10+2 है जो विद्यार्थी द्वारा साइंस विषयों में न्यूनतम 50% अंको के साथ किसी रेकग्नाइज़्ड एजुकेशनल बोर्ड द्वारा प्राप्त किया गया हो। कई कॉलेजों में एंट्रेंस टेस्ट के आधार पर दाखिला दिया जाता है जबकि कुछ इंस्टीटूशन्स 10+2 में परफॉरमेंस के आधार पर डायरेक्ट एडमिशन देते हैं। देश में इस कोर्स का संचालन करने वाले कुछ प्रमुख संसथान हैं :- डी वाई पाटिल यूनिवर्सिटी मुंबई, सावित्रीबाई फूले पुणे यूनिवर्सिटी पुणे, जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज कर्नाटक एवं श्री बालाजी विद्यापीठ यूनिवर्सिटी पॉन्डिचेरी, श्री देवराज URS मीडियल कॉलेज कर्नाटक आदि। 

उत्तर प्रदेश में इस कोर्स के लिए कॉलेजेस में १.बाबा राघव दस मेडिकल कॉलेज गोरखपुर,२. संतोष मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल ग़ज़िआबाद,३.स्वामी विवेकानन्द सुभारती यूनिवर्सिटी मेरठ आदि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *